एसआरटी
विज्ञान अनुसंधान एवं प्रशिक्षण
स्मार्ट
सैटेलाइट मौसम विज्ञान मुद्र विज्ञान नुसंधान वं प्रशिक्षण
Vedas

  • परिचय: भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) समर्पित मौसम और समुद्र विज्ञान उपग्रहों अर्थात्, इनसैट श्रृंखला, कल्पना -1, मेघा-ट्रापिक्स, ओशनसैट -1 और 2, रीसैट -1 और सरल को प्रमोचित किया गया है। भविष्य में, इसरो इनसैट-3डीआर, स्कैटसैट, जीआईसैट और मौसम संबंधी और समुद्र विज्ञान के अध्ययन के लिए कुछ और उपग्रहों को प्रक्षेपित करने की योजना बनाई गई। इन उपग्रहों द्वारा एकत्र आंकड़ों का संग्रहण और अंतरिक्ष उपयोग केंद्र (सैक), अहमदाबाद द्वारा एक डेटा पोर्टल 'मौसम विज्ञान और समुद्र विज्ञान सैटेलाइट डाटा अभिलेखीय केंद्र' (मोज़डेक) डिजाइन और विकसित के माध्यम से प्रचारित हो रहे हैं।

  • उद्देश्य: स्मार्ट इसरो देश भर में छात्रों, शिक्षाविदों और शोधकर्ताओं को मौसम विज्ञान और समुद्र विज्ञान उपग्रह डेटा मोज़डेक और अन्य संबंधित डेटासेट संग्रहण का उपयोग कर अनुसंधान के क्षेत्र में समर्थन प्रदान करने की पहल है।

    स्मार्ट छात्रों, शिक्षाविदों और शोधकर्ताओं के लिए निम्न समर्थन प्रदान करता है:
    • मोज़डेक आंकड़ों के अभिज्ञता
    • डेटा एनालिटिक्स और उन्नत दृश्य
    • अत्याधुनिक कंप्यूटर सुविधाओं तथा
    • अनुसंधान मार्गदर्शन
    दो आउटरीच पहल अर्थात् (i) अनुसंधान पहल (ii) प्रशिक्षण पहल स्मार्ट भाग के रूप में अपने उद्देश्य को पूर्ण करने हेतु योजना बनाई गई।

  • सुविधाओं की पेशकश: एक समर्पित अनुसंधान तथा परीक्षण प्रयोगशाला में अत्याधुनिक कार्यस्थानों प्रदर्शन प्रणाली, मोज़डेक डेटा और भंडारण सुविधा के साथ, स्मार्ट के भाग के रूप में सैक में स्थापित की गई। छात्रों, शिक्षाविदों और अनुसंधान और प्रशिक्षण कार्यक्रमों में भाग लेने के शोधकर्ताओं ने इन सुविधाओं का उपयोग करने की अनुमति दी जाएगी।

  • हभागिता हेतु आमंत्रण : छात्रों, शिक्षाविदों और स्मार्ट अनुसंधान पहल के लिए शोधकर्ताओं से आवेदन आमंत्रित करते हैं। इच्छुक स्मार्ट वेबसाइट पर उपलब्ध आवेदन फार्म भर कर संबंधित विभाग / संस्था प्रधान के माध्यम से प्रधान, एमआरटीडी, सैक को भेज दें । आवेदन साल भर स्वीकार किए जाते है । सैक में निर्मित किए गए पटेंट, कॉपीराइट, आईपीआर को सैक में संयुक्त रूप से तैयार होने चाहिए।

    अनुसंधान एवं प्रशिक्षण प्रपत्र डाउनलोड करें
    स्मार्ट ब्रोशर डाउनलोड करें
    ट्रीज/ स्मार्भ कार्भक्रम के अंतर्भत अनुसंधान एवं प्रशिक्षण के लिए एसओपी

    अधिक जानकारी के लिएः http://mosdac.gov.in/SMART
ट्रीज
भू पारिस्थितिकी तंत्र में प्रशिक्षण वं नुसंधान
Vedas

  • उद्देश्य: यह इसरो की स्नातक और अनुस्नातक विद्यार्थियों, शिक्षा क्षेत्र के पेशेवरों और देश के अनुसंधानकर्ताओं को भू-पारिस्थितिकी तंत्र अनुसंधान के क्षेत्र में भू-प्रेक्षण उपग्रह प्रणाली के उपयोग से सहायता देने की पहल है।

  • ट्रीज: अनुसंधान एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम के स्नातकों और पोस्ट ग्रेजुएट छात्रों, अनुसंधान एवं विकास संस्थानों और शिक्षा से शोधकर्ताओं के लक्षित दर्शकों के लिए तैयार कर रहे हैं। सुदूर संवेदन अनुप्रयोग व्यापक क्षेत्र होगा। वेदास में निहित डेटा बेस को स्रोत रूप में इस्तेमाल किया जाएगा।

  • हम छात्रों, शिक्षाविदों और शोधकर्ताओं के लिए निम्न सहायता प्रदान कर रहे हैं -
    1. वेदास का परिचय।
    2. बड़े नेटवर्क स्टोरेज पर उपलब्ध वेदास डेटा बेस पर भू डेटा का उन्नत दृश्यन।
    3. वेदास कंप्यूटर वर्कस्टेशन, इमेज प्रोसेसिंग और जीआईएस सॉफ्टवेयर तक अभिगम।
    4. डाटा एनालिटिक्स।
    5. अनुसंधान मार्गदर्शन।

  • इस का प्रबंधन भू-पारिस्थितिकी तंत्र अनुसंधान एवं प्रशिक्षण प्रभाग (ERTD), वेदास अनुसंधान समूह, सैक द्वारा किया जाता है।

  • अपने उद्देश्य को पूरा करने के लिए दो आउटरीच पहलों अर्थात् (i) प्रशिक्षण पहल और (ii) अनुसंधान पहल की योजना बनाई गई है।

  • सुविधाओंकी पेशकश: सैक में अत्याधुनिक वर्कस्टेशन, डिस्प्ले सिस्टम, वेदास डेटा और नेटवर्क स्टोरेज सुविधा से लैस एक समर्पित अनुसंधान और प्रशिक्षण प्रयोगशाला स्थापित की गई है। सहभागी छात्र, शिक्षाविदों और अनुसंधानकर्ताओं को प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए इन सुविधाओं का उपयोग करने की अनुमति दी जाएगी। इसके अलावा उन्हें सैक में उनकी कार्य अवधि के दौरान सैक कैंटीन सुविधा और ज्ञान समृद्ध पुस्तकालय की सुविधा का उपयोग करने की अनुमति दी जाएगी।

  • सहभागिता के लिए कॉल करें: छात्रों, शिक्षाविदों और शोधकर्ताओं से अनुसंधान पहल कार्यक्रमों के लिए आवेदन आमंत्रित किए जाते हैं। इच्छुक उम्मीदवार वेबसाइट पर उपलब्ध फार्म भरकर आवेदन कर सकते हैं और इसे आगे अपने संबंधित विभाग/संस्था के प्रधान के माध्यम से प्रधान, ईआरटीडी / वीआरजी / ईपीएसए को अग्रेषित करें। आवेदन साल भर स्वीकार किए जाते हैं। सैक में किए गए कार्य से प्राप्त पेटेंट, कॉपीराइट, आईपीआर सैक और अन्य प्रासंगिक संस्थान के हिस्सा होंगे।

  • ट्रीज चयन-सह-मूल्यांकन समिति की तिमाही बैठक जनवरी, अप्रैल, जुलाई और अक्तूबर के प्रथम सप्ताह में रिक्तता एवं आवश्यकता के अनुसार चयन करने के लिए आयोजित की जाएगी। अत: अभ्यर्थी तदनुसार पूर्व में आवेदन करें।

  • सैक कैंपस के अंदर पेन ड्राइव, मोबाइल फोन, लैपटॉप इत्यादि सहित कोई भी इलेक्ट्रॉनिक सामग्री लाने की अनुमति नहीं है। आप ये सामान अतिथि गृह/आवास में रख सकते हैं।


अधिक जानकारी के लिए वेबसाइट : https://vedas.sac.gov.in
संपर्क करें:
डॉ एसपी व्यास,
प्रधान, विज्ञान अनुसंधान एवं प्रशिक्षण विभाग (एसआरटीडी/आरटीसीजी/एमआईएसए),
अंतरिक्ष उपयोग केंद्र (सैक-बोपल),
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो),
बोपल, अहमदाबाद -380058, भारत
फोनः: +91-079-26916223
079-26916209
079-26916112
ईमेल: [email protected]
[email protected]
[email protected]