भौतिक महासागर विज्ञान परिवर्तन
महासागर हमारे ग्रह की लगभग 3 / 4 सतह पर फैले हैं। जलवायु और मौसम पर उनका गहरा प्रभाव पड़ता है। सैक में महासागर विज्ञान के लिए वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं की एक समर्पित टीम है। वर्तमान अनुसंधान में संख्यात्मक मॉडल और अंतरिक्ष जनित टिप्पणियों का उपयोग कर उन्नत समुद्र स्थिति पूर्वानुमान (एओएसएफ), महासागर प्रक्रिया अध्ययन, और डेटा आत्मसातकरण (डीए) तकनीक का विकास शामिल हैं।

1. उन्नत महासागर स्थिति पूर्वानुमान
केंद्र संख्यात्मक मॉडल और डीए पद्धतियों का उपयोग कर महासागर स्थिति का सटीक और समयसर पूर्वानुमान लगाता है। मुख्य गतिविधियाँ निम्नानुसार हैं::
  • एसडब्ल्यूएएन/डब्ल्यूएएम आधारित लहर पूर्वानुमान प्रणाली (अल्टिका डेटा को आत्मसात करते हुए) नियमित रूप से कार्य करती है और मोस्डैक वेबसाइट के माध्यम से चेतावनी प्रदान की जाती है।
  • पीओएम मॉडल का उपयोग कर डेटा-आत्मसात्कारी परिसंचरण प्रणाली भी नियमित रूप से कार्यरत है और नतीजे मोस्डैक वेबसाइट पर लोड किए जाते हैं।
  • उच्च विभेदन लहर और परिसंचरण मॉडल स्थापित करने की क्षमता का विकास।
  • एडीसीआईआरसी का उपयोग करते हुए तटीय क्षेत्र के लिए तूफान पूर्वानुमान प्रणाली अब पूरी तरह कार्यरत है।

physicaloceanography
लहर
physicaloceanography
परिसंचरण
physicaloceanography
तूफान उद्भव

physicaloceanography
उच्च संकल्प समुद्र की सतह के तापमान और से मॉम-3 आदर्श लवणता

2. महासागर प्रक्रिया अध्ययन
सागर प्रक्रियाओं का अध्ययन सागर गतिशीलता को समझने के लिए महत्वपूर्ण है। इसलिए कई प्रक्रिया अध्ययन किए गए हैं। उनमें से कुछ का वर्णन नीचे किया गया है:
  • महासागर मॉडल में जैव-भौतिक युग्मन वह नया घटक है जो जैव-भौतिक विनिमय तंत्र का अध्ययन करने के लिए महासागर अनुसंधान के क्षेत्र में जोड़ा गया है।
  • युग्मित मॉडल का उपयोग कर अल नीनो की भविष्यवाणी पर शुरूआती शोध। ला नीना/अल नीना समय के दौरान चक्रवात गतिविधियों में महासागरों की भूमिका का अध्ययन करने के लिए सैटेलाइट डेटा इस्तेमाल किए जा रहे हैं।
  • जीएचआरएसएसटी और इनसैट-3डी एसएसटी से प्राप्त तापीय आंकड़ों का उपयोग सागर मिश्रण का अध्ययन करने के लिए किया गया है।
  • एडब्ल्यूएआरई ने हिंद महासागर क्षेत्र पर जेसन-2 और अल्टिका तुंगतामापी से संभावित अक्षय ऊर्जा संसाधन निकालने का प्रदर्शन किया। उत्पाद मोस्डैक वेबसाइट पर लोड किया गया।
  • भारतीय मुख्य भूमि के निकटवर्ती तटीय क्षेत्रों से 40 हर्ट्ज अल्टिका तरंग द्वारा वायु, लहर और समुद्र के स्तर मापने की क्रियाविधि विकसित की है। नमूना उत्पाद मोस्डैक वेबसाइट पर लोड किया गया।
  • चक्रवात के दौरान तेज वायु स्थिति और एड्डी तथा फ्रंट जैसे महासागर लक्षण प्राप्त करने के लिए आरआईसैट-1 डेटा का उपयोग किया गया है। सागर गतिशीलता को समझने में सागर प्रक्रियाओं का अध्ययन महत्वपूर्ण है। कई प्रक्रिया अध्ययन शुरू किए गए हैं।
physicaloceanography
physicaloceanography
चक्रवात मेघ के ऊपर हवाएँ - आरआईसैट-1 द्वारा
physicaloceanography
आरआईसैट-1 एमआरएस डेटा (जनवरी 2014)
physicaloceanography
पूर्ण विभेदन पर (25 मीटर) एड्डी का व्यास 6.5 किमी दूर है

3. डेटा आत्मसातकरण तकनीकों का विकास
सैटेलाइट डेटा महासागर अनुसंधान और पूर्वानुमान का आधार-स्तंभ है। सागर मॉडल के क्षेत्र में केंद्र द्वारा किए जा रहे कार्यों में से कुछ संक्षेप में नीचे दिए गए हैं:
  • सरल/अल्टिका समुद्र स्तर और समुद्री लवणता डेटा को आत्मसात करने के लिए वैश्विक सागर मॉडल में एकल विकास योग्य विस्तारित कलमन (एसईईके) फ़िल्टर कार्यान्वित किया गया।
  • युग्मित जैव-भौतिक मॉडल में बहुपद विश्रृखंलता और कण फिल्टर डेटा आत्मसातकरण तकनीकें लागू की गई हैं।
  • एसईईके फिल्टर कलनविधि का परीक्षण किया और सक्रिय तूफान मॉडल में लागू किया गया।
  • एल्गोरिथ्म एओएसएफ के लिए समष्टि इष्टतम अंतर्ध्रुवण तकनीक विकसित की गई है।
physicaloceanography
थर्मोक्लाइन गहराई पर प्रभाव (डी20)
physicaloceanography
डोटेड: एसडी डैश-डोटेड: सीसी लाल डैश: ओ बीएस
physicaloceanography
युग्मित जैव भौतिक मॉडल