उद्योग सहयोग
भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के मिशनों की संख्या में वृद्धि हो रही है। इन अभियानों को कम से कम समय में साकार करने के लिए इसरो प्रौद्योगिकी हस्तांतरण, प्रौद्योगिकी उपयोग, उद्योग सहयोग और विक्रेता विकास के माध्यम से उद्योगों की व्यापक भागीदारी को प्रोत्साहित कर रहा है। देश में अंतरिक्ष उद्यम के सभी क्षेत्रों में उद्योगों के महत्वपूर्ण सहयोग के रूप में सैक/ इसरो को इससे प्रचुर लाभ मिलने लगा है।सैक के साथ 300 से अधिक छोटे, मध्यम और बड़े उद्योगों का जुड़ना पिछले वर्षों में उद्योग साझेदारी के क्रमिक पोषण का एक परिणाम है। तकनीकी विधिज्ञान हस्तांतरण, तकनीकी परामर्श और विक्रेता विकास के क्षेत्र में सक्रिय सहयोग प्रदान कर सैक नीतभार साकार करने में बढ़ती चुनौतियों का सामना करने में सक्षम हुआ है।

पिछले कुछ वर्षों में भारतीय अंतरिक्ष उद्योग ने दूरसंचार, प्रसारण, सुदूर संवेदन और अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के अनुप्रयोगों अर्थात दूर-चिकित्सा और दूर-शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कदम बढ़ाएं हैं।

सैक के साथ 300 से अधिक छोटे, मध्यम और बड़े उद्योगों का जुड़ना पिछले वर्षों में उद्योग साझेदारी के क्रमिक पोषण का एक परिणाम है। तकनीकी विधिज्ञान हस्तांतरण, तकनीकी परामर्श और विक्रेता विकास के क्षेत्र में सक्रिय सहयोग प्रदान कर सैक नीतभार साकार करने में बढ़ती चुनौतियों का सामना करने में सक्षम हुआ है।



सैक से व्यापार